6/4/09

पीयूष मिश्रा का विडियो साक्षात्कार "www.mihirpandya.com"पर.



गुलाल देखने के बाद जो पीयूष मिश्रा के नए नए मुरीद हुए हैं और वे भी जो रंगमंच के दिनों से ही इस बेहतरीन कलाकार के फन के कायल हैं,उनके लिए एकदम नया और ख़ास विडियो साक्षात्कार मेरे अभिन्न मित्र और आवारा हूँ ब्लॉग के 'मिहिर पंड्या' के वेबसाइट www.mihirpandya.com पर उपलब्ध है.इस इंटरव्यू की सबसे ख़ास बात है कि अन्य कलाकारों के रेट-रटाये और घिसे -पिटे फार्मुलेबाजी वाले साक्षात्कार के बीच इस अद्भुत कलाकार ने अपने दिल का दरद दिल्ली के रंगमंच मार्क्स की बात कर अपनी दुकानदारी चलाने वाले छद्म मार्क्सवादियों तक पर अपनी तीखी टिपण्णी दी है.मिहिर के ही ब्लॉग साथी वरुण ग्रोवर ने अनुराग कश्यप के मशहूर प्ले "the skeleton women" जो पृथ्वी थिएटर मुम्बई में खेला जा रहा है के मौके पर अनौपचारिक तौर पर लिया और फिर जो सिलसिला चला तो बस एक से एक बात निकलती चली गयी.पीयूष मिश्रा के अब तक छपे इंटरव्यू को आप भूल जायेंगे.यकीन जानिए ये वही पीयूष मिश्रा हैं जिनके नाम की तूती दिल्ली के रंगजगत में बोलती थी.आखिर क्यों रंगमंच का एक बहुत ही उम्दा कलाकार इतना खिन्न हो गया इस मंच से .?क्यों वह अपने संघर्ष के दिनों के कड़वाहट को पचा नहीं पा रहा है?और भी बहुत कुछ ..आखिर एक कलाकार के संवेदनशील मन को ठेस कहीं न कहीं हम जैसों से भी पहुंची है...कृपया इस इंटरव्यू को पढिये और मिहिर के इस प्रयास पर उनकी हौसलाअफजाई कीजिये,.....

एक थे रसूल मियाँ नाच वाले

भिखारी ठाकुर के नाच का यह सौंवा साल है लेकिन भोजपुर अंचल के जिस कलाकार की हम बात कर रहे हैं उसी परंपरा में भिखारी ठाकुर से लगभग डेढ़ दशक प...